Uncategorized

सूरज से गुफ्तगू #41

Aesthetic Miradh

दिखोगे या नहीं दिखोगे
कब से खड़ी हु रास्ता देखे
कुछ बोलोगे या नहीं बोलोगे
तेरी कहानी को सुनने को कान है तरसे
मेरी तरह दिलचस्प न सही
पर कहानी तो तेरी भी होगी
मेरी तरह बेख़ौफ़ न सही
मोहब्बत तो तूने भी की होगी
चल अब आ भी जा
ऐसे न सत्ता
मोहब्बत का इज़हार कर भी जा
ऐसे न मुझसे तू अपनी कहानी छुपा

Read More: सूरज से गुफ्तगू #40

View original post

Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s